Header Ads

प्रेगनेंसी की कर रही है प्लानिंग तो अभी से खाना शुरू कर दें ये 7 चीजें

हम आपको बताने जा रहे हैं कि अगर दंपत्ति बच्चे की प्लानिंग करने वाले हैं, तो उन्हें अपने भोजन का ध्यान किस तरह से रखना चाहिए, खासकर महिला को । फैमिली प्लानिंग अर्थात प्रेगनेंसी के लिए तैयार होना एक बहुत बड़ा काम होता है। अगर आप पूर्णरूप से स्वस्थ्य नहीं है तो इससे आपके साथ-साथ आपके बच्चे की सेहर पर भी असर पड़ता है।अगर आप भी फैमिली प्लानिंग कर रही हैं तो आपको अपने खानपान को लेकर सतर्क हो जाना चाहिए। डाइट में उन खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए जो आपको पूरा पोषण दें तथा होने वाले बच्चे के लिए शरीर को मजबूत करें।



pregnancy diet

आज हम आपको उन पोषक तत्वों के बारे में बताएंगे जो किसी भी प्रेगनेंसी में बहुत मेजर रोलप्ले करते हैं और उन पोषक तत्वों को किन किन खाद्य पदार्थों से प्राप्त किया जा सकता है इस पर भी चर्चा करेंगे।

इन्हें भी पढ़ें : पल्स विधि द्वारा जेंडर प्रिडिक्शन
इन्हें भी पढ़ें : चाइना में बच्चे का जेंडर पता करने के कुछ प्राचीन तरीके
इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंट होने में कितना समय लगता है
इन्हें भी पढ़ें : मां बाप बनने की क्षमता को प्रभावित करने वाले तत्व - आलस्य
इन्हें भी पढ़ें : माँ बाप न बनने का एक और कारण- मशीनों पर अत्यधिक निर्भरता
इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंट न हो पाना एक कारण आप का भोजन  


विटामिन बी वाले खाद्य पदार्थ - Yitaamin B Vaale Khaady Padaarth
अगर आप फैमिली प्लान कर रही हैं तो सबसे पहले अपनी डाइट में विटामिन बी का इनटेक बढ़ा दें. विटामिन स्वस्थ व निरोग शरीर के लिये बेहद जरूरी होते हैं। प्रेगनेंसी के दौरान तो विटामिनों का बेहद महत्वपूर्ण रोल होता है। खासतौर पर विटामिन बी तो इस दौरान बेहद महत्वपूर्ण होता है। जब गर्भ में बच्चा बढ़ रहा होता है, उस दौरान विटामिन बी शरीर को मजबूत रखता है। 8 प्रकार के बी विटामिनों (बी कॉम्पेल्स के नाम से भी जाना जाता है) युक्त भोजन स्वस्थ गर्भावस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे कि मेथी,पालक,सरसों का साग,बथुआ,मूली के पत्ते,चोलाई,धनिया में विटामिन बी की अच्छी मात्रा होती है।

diet for pregnant women


विटामिन बी साबुत अनाज में भी काफी मात्रा में पाया जाता है साबुत अनाज से कौन कौन से आइटम बनते हैं बता देते हैं जैसे गेहूं से रोटी, पराठा,  पूरी, दलिया, ब्रैड, आदि। मक्का से रोटी, भुट्टा, कॉर्नफ़्लेक्स और कार्नसूप आदि। रागी से लड्डू, रोटी, दलिया, डोसा एवं बाजारे की रोटी, ज्वार की रोटी, कूटू की रोटी, पूरी, मक्का के फ्लेग्स और ओटमील व अनेक अन्य व्यंजन बनते हैं।
अंडे में और मांस में विटामिन बी की अच्छी मात्रा होती है।
भोजन में फोलिक एसिड बढ़ाएं: फोलिक एसिड एक ओर जहां गर्भ धारण की क्षमता को बढ़ाता है वहीं ये गर्भ के विकास के लिए भी बहुत जरूरी तत्व है। 

फोलिक एसिड एक तरह से विटामिन B9 को ही कहा जाता है विटामिंस के लिए जो भी खाद्य पदार्थ बताएं हैं वह तो ठीक है लेकिन उसके अलावा विटामिन B9 के लिए कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे हैं जिनमें यह बहुत मात्रा में पाया जाता है जैसे कि तूअर की दाल, सोयाबीन, अंकुरित दाल, गेंहू, चुकंदर, ब्रेड, पास्ता, आलू, नारंगी, सेम, मक्के का आटा, सफेद चावल, केला और ब्रोकली में भरपूर मात्रा में फोलिक एसिड पाया जाता है।
आप अपने डॉक्टर से कंसल्ट करके फोलिक एसिड की टेबलेट भी ले सकती है।

शरीर में पानी की कमी नहीं होने दे :  Body me Pani ki kami na Ho
अगर महिला गर्भधारण के बारे में सोच रही है तो उससे कुछ महीने पहले से ही महिला को अपने शरीर में पानी की कमी को नहीं होने देना है. शरीर में पानी की कमी होना यूं भी खतरनाक हो सकता है।
पानी की कमी से शरीर में छोटे-छोटे रोग पड़ जाते हैं
जैसे की स्किन में प्रॉब्लम,
जल्दी थकान हो जाना,
हाई ब्लड प्रेशर,
खून का गाढ़ा हो जाना, इस समस्या से शरीर की कनेक्टिविटी कमजोर पड़ जाएगी.
कब्ज की समस्या आ जाती है अगर महिला को कब्ज हो गया तो खाना ढंग से नहीं पचेगा तो आप कितने ही पोषक तत्व अपने भोजन के द्वारा शरीर में लेते रहे वह शरीर को प्राप्त नहीं होंगे अगर कब्ज है तो इसलिए आपको पानी भरपूर मात्रा में पीना है

foods to eat during pregnancy

डेयरी प्रोडक्ट्स - Dairy Products 

कैल्शियम हमारे शरीर के लिए अत्यधिक आवश्यक पोषक तत्व है और यह पोषक तत्व हमें डेयरी प्रोडक्ट्स से बहुत अच्छी मात्रा में प्राप्त हो सकता है. ये न केवल फर्टिलिटी को बढ़ाने का काम करते हैं बल्किी हड्डियों को भी मजबूती देने का काम करता है. ऐसी महिलाओं को दूध, दही, और दूसरे डेयरी प्रोडक्ट का यूज करना चाहिए इसके लिए हम बाजार में मिलने वाले डेहरी प्रोडक्ट्स को भी प्रयोग में ला सकते हैं बस आपको यह बात सुनिश्चित करनी है कि वह आपके लिए सुरक्षित है और ठीक है।

इन्हें भी पढ़ें : ब्लीचिंग पाउडर से जेंडर प्रिडिक्शन कैसे करते हैं
इन्हें भी पढ़ें : घर पर टूथपेस्ट से प्रेगनेंसी कैसे चेक करें
इन्हें भी पढ़ें : वर्षा ऋतु में गर्भ की देखभाल कैसे करें
इन्हें भी पढ़ें : बिना प्रेगनेंसी के प्रेगनेंसी वाले लक्षण कब आते हैं
इन्हें भी पढ़ें : महिलाओं में बांझपन के क्या कारण होते हैं - महिला की उम्र के कारण  

अंडे मछली और मांस - Non veg Food
भारत देश के अंदर अधिकतर महिलाएं अंडे मछली और मांस का सेवन नहीं करती है लेकिन जो महिलाएं इनका प्रयोग करती है तो उन्हें इन का प्रयोग प्रेगनेंसी से पहले थोड़ा अधिक करना चाहिए क्योंकि इनके अंदर फर्टिलिटी को बढ़ाने वाले पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

विटामिन सी - Vitamin C
विटामिन सी एक बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट है यह शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है विटामिन सी की आवश्यक मात्रा अगर शरीर में उपलब्ध हो तो शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है और साथ ही साथ विटामिन सी शरीर के आयरन सोखने  की क्षमता को बढ़ा देता है.
विटामिन C  हृदय रोग, अस्थमा, कैंसर, एलर्जी, तनाव, जोड़ों के दर्द और जख्म भरने ने में बहुत महत्वपूर्ण रोल अदा करता है।
संतरा, मौसमी, टमाटर और आंवला खाने से विटामिन सी की जरूरत पूरी हो जाती है।

ओमेगा 3 - Omega 3
ऐसी महिलाओं को बादाम, अखरोट और मछली को अपनी डाइट का हिस्सा बनाना चाहिए. इन तीनों ही चीजों में भरपूर मात्रा में ओमेगा 3 पाया जाता है. ओमेगा 3 फैटी एसिड न केवल गर्भधारण करने से पहले लेना जरूरी है बल्किा प्रेग्नेंसी में भी इसे लेना जरूरी है।


हरी पत्तेदार सब्जियां - Green Gegetable 
हरी पत्तेदार सब्जियां सेहत के लिए बहुत जरूरी हैं. इनमें आयरन, फोलिक एसिड और एंटी-ऑक्सीडेंट अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं. इसके अलावा सब्जिैयों के सेवन ये बीटा केरोटीन की भी जरूरत पूरी हो जाती है।



No comments

Powered by Blogger.