Header Ads


Pregnancy Care items

क्या गर्भावस्था के दौरान अलसी के बीज खाना सुरक्षित रहता है - Eat or not eat flaxseed seeds during pregnancy

क्या प्रेगनेंसी के दौरान अलसी के बीज का प्रयोग किया जा सकता है.

अधिकतर गर्भवती महिलाएं इस बात को लेकर कन्फ्यूज रहती है, कि उन्हें प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए, क्या नहीं खाना चाहिए. आज अलसी के बीज को लेकर हम चर्चा कर रहे हैं आज हम आपसे बात करेंगे ---

क्या गर्भावस्था के दौरान अलसी के बीज खाना सुरक्षित रहता है.
1 दिन में कितनी की अलसी बीज खा सकते हैं.
अलसी के बीज गर्भावस्था के दौरान कब खाने चाहिए.
अलसी की न्यूट्रिशन वैल्यू क्या है.
अलसी के लाभ और नुकसान किस प्रकार होते हैं.
आहार में अलसी को कैसे शामिल करें.


इन सब विषयों पर बात करेंगे वीडियो शुरू करते हैं

 

Eat or not eat flaxseed seeds during pregnancy

क्या गर्भावस्था के दौरान अलसी के बीज खाना सुरक्षित है


अलसी को अंग्रेजी माध्यम में फ्लेक्सी कहा जाता है. यह चमकीले छोटे भूरे रंग या सुनहरे रंग के बीज होते हैं. यह बहुत ज्यादा पौष्टिक होते हैं. इनकी पौष्टिकता पर बाद में चर्चा करेंगे. पहले हम बात करते हैं, क्या यह प्रेगनेंसी में खाना सुरक्षित है.

दोस्तों हम आपको बता दें, प्रेगनेंसी के दौरान अलसी के बीज को नियंत्रित मात्रा में ही खाने की सलाह दी जाती है. आप 1 दिन में 15 ग्राम से अधिक अलसी के बीज नहीं खाएंगे. लेकिन किसी विशेष अवस्था में 4 ग्राम बीज खाना ही काफी ज्यादा माना जाता है.

अलसी के बीज गर्भावस्था के दौरान कब खाने चाहिए


गर्भावस्था के दौरान अलसी के बीज, आप पहली, दूसरी और तीसरी तीनों तिमाही में नियंत्रित मात्रा में खा सकती हैं. इसकी मात्रा के लिए आपको अपने डॉक्टर से एक बार सलाह जरूर लेनी चाहिए. क्योंकि वह आपकी तक प्रेगनेंसी और आपके हेल्थ नेचर से अच्छी तरह वाकिफ होता है, तो वह उसकी सही मात्रा आपको बता पाएंगे.
अलसी की न्यूट्रिशन वैल्यू क्या है

अलसी के अंदर पौष्टिक तत्वों का खजाना होता है. इसके अंदर आपको काफी सारे पोषक तत्व प्राप्त होते हैं जैसे कि ------


कोलाइन,
फॉलेट,
विटामिन बी सिक्स,
नियासिन,
थायमिन,
राइबोफ्लेविन,
विटामिन सी,
कॉपर,
सेलेनियम,
मैंगनीज,
पोटेशियम,
सोडियम,
जिंक,
फास्फोरस,
मैग्नीशियम,
आयरन,
कैल्शियम,
फाइबर,
कार्बोहाइड्रेट,
फैट,
प्रोटीन,
एनर्जी और पानी 

यह सभी इसके अंदर पाए जाते हैं. जैसा कि हमने अभी बताया है इसके अंदर मिनरल्स अधिक मात्रा में पाए जाते हैं. कॉपर से लेकर कैल्शियम तक सारे के सारे मिनरल्स ही हैं.

इन्हें भी पढ़ें : चबा चबा कर भोजन खाने से क्या फायदा
इन्हें भी पढ़ें : 4 सफेद जहर जो आप रोज खाते हैं
इन्हें भी पढ़ें : गोंद या गोंद कतीरा के लड्डू
इन्हें भी पढ़ें : गर्भपात के बाद महिला कैसा भोजन खाए किन बातों का ध्यान रखें

अलसी खाने के गर्भ अवस्था में लाभ


आइए चर्चा करते हैं अलसी के बीज खाने से किस प्रकार के फायदे महिला और शिशु को होते हैं ….

  • अलसी के बीज में फाइबर अधिक मात्रा में होता है, तो इस वजह से यह प्रेगनेंसी के दौरान कब्ज में राहत प्रदान करने का कार्य करती है.

  • इसके संयमित और नियमित सेवन से मल त्यागने में आसानी होती है. बवासीर की समस्या में भी राहत मिलती है, लेकिन अगर आप इसके अधिक मात्रा खाना शुरू कर दे तो यह कब्ज का भी कारण बन सकता है.

  • अलसी के बीज का सेवन करने से यह कैंसर के जोखिम को कम करता है.

  • अलसी के बीज में अल्फा लिनोलेनिक एसिड पाया जाता है, जो ब्लड में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है. अलसी अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है. इस कारण से यह रक्त को पतला करने में सक्षम होता है. हृदय रोगों से बचाता है.


  • अलसी का बीज या फ्लेक्स सीड के अंदर ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है, जो उनके मस्तिष्क के विकास में अत्यधिक महत्वपूर्ण होता है. क्योंकि अगर ओमेगा 3 फैटी एसिड का अभाव बच्चे के शरीर में हो जाए, तो उसका विकास सही तरह से नहीं होता है.


  • अगर प्रेगनेंसी के दौरान हाई ब्लड प्रेशर की समस्या नजर आती है या बार-बार ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है तुलसी के बीज खाने से यह काफी हद तक नियंत्रित रहता है.


  • अक्सर महिलाएं डिलीवरी को लेकर काफी घबराई हुई रहती हैं और कभी-कभी अवसाद अर्थात डिप्रेशन का शिकार हो जाती हैं ऐसे में अलसी के बीच काफी फायदा करते हैं.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में लहसुन खाने के क्या फायदे, नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान पनीर खाना | Eating cheese during pregnancy
इन्हें भी पढ़ें : क्या गर्भवती स्त्री चने खा सकती है
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था के दौरान मकई दाने के लाभ और साइड इफेक्ट

अलसी के बीज को भोजन में कैसे शामिल करें


अलसी के बीज को भोजन में शामिल करने के कई सारे तरीके हैं

  1.     आप चाहे तो दलिया या किसी अन्य अनाज में मिलाकर इसका प्रयोग कर सकती हैं.

  2.     अगर आप चाहे तो ब्रेड इडली डोसे इत्यादि के साथ इस को मिलाकर खा सकते हैं.

  3.     पास्ता या उबली हुई सब्जियों में भी इसे डालकर खाया जा सकता है.

  4.     दही में मिलाकर भी आप खा सकती .हैं.

  5.    आप चाहे तो रोटी चपाती परांठे बनाते वक्त इसे गेहूं के आटे में मिला ले.

  6.     आप इसके बीजों के बुरादे को सलाद पर छिड़क कर भी खा सकते हैं.


अलसी के दुष्प्रभाव


पहले अलसी के दुष्प्रभाव पर चर्चा कर लेते हैं. उसके बाद इससे होने वाले फायदों पर बात करेंगे जो काफी सारे हैं.

अलसी के कुछ साइड इफेक्ट भी नजर आते हैं जैसे कि

  • गैस बनना, फाइबर अधिक होता है आपने ज्यादा खा ली तो दस्त की समस्या हो सकती है. जी मिचलाना जैसी समस्याएं भी अलसी के कारण हो सकती है.

  • कुछ प्रकार की एलर्जी भी इसके कारण हो जाती हैं, जिसके अंदर आपको सांस लेने में तकलीफ, आंखों में सूजन या छाती में जकड़ नजर आ सकती हैं.

  • अलसी के बीज ब्लड प्रेशर को भी बढ़ा सकते हैं.

  • शरीर में ट्यूमर भी बना सकते हैं.

  • अगर आप अलसी का सेवन कुछ अधिक मात्रा में करें तो नवजात शिशु के वजन में कमी आ सकती है.

 

 




No comments

Powered by Blogger.