कैसे जाने आम प्रेगनेंसी में खाने लायक है या नहीं है | How to know if a mango is edible or not edible

प्रेगनेंसी के दौरान आम खाए जाने को लेकर चर्चा कर रहे हैं दोस्तों आम का सीजन आने वाला है और आम मार्केट में धीरे-धीरे आने भी लगा है तो ऐसे में गर्भवती महिला को आम खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए इस संबंध में हम बात करने वाले हैं हम आपसे कुछ टॉपिक पर बात करेंगे जिससे आप आम संबंधी फैसला ले सकती हैं.

आज के हमारे टॉपिक हैं

प्रेगनेंसी में आम खाना क्या सुरक्षित है, गर्भवती स्त्री 1 दिन में कितने आम खा सकती है, गर्भावस्था के दौरान आम का सेवन कब करना चाहिए, आम में कौन कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं, कैसे पहचाने आम प्रेगनेंसी में खाने लायक है.


How to know if a mango is edible or not edible

 

क्या आम प्रेगनेंसी में सुरक्षित है

भारत के अंदर आम को फलों का राजा कहा जाता है. और यह बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय फल है. लेकिन माना जाता है कि इस फल की तासीर थोड़ा सा गर्म होती है. इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान आम खाने में सावधानी रखने की आवश्यकता होती है.

अगर फल पेड़ पर ही पकता है तो आप प्रेगनेंसी के दौरान आम खा सकती हैं. लेकिन अगर आम को कच्चा तोड़कर फिर उसे कृत्रिम रूप से पकाया जाता है, तो वह काफी नुकसानदायक हो जाता है. ऐसा आम हमारी समझ से किसी भी गर्भवती स्त्री को नहीं खाना चाहिए.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में अदरक खाने के फायदे और नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में कौन से 14 ड्राई फ्रूट खाने चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में प्याज खाने के लाभ और नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान गर्मियों में बादाम कैसे खाएं

1 दिन में कितना आम खाना चाहिए

प्रेगनेंसी के दौरान प्रतिदिन कितना आम खाना चाहिए अगर आप उसकी मात्रा की बात कर रहे हैं तो आपको लगभग आधा आम रोज खाने में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं है. बस आपको ध्यान यही रखना है, कि आम कृत्रिम रूप से नहीं पकाया गया हो.

अब बात करते हैं कि आम के अंदर कौन कौन से पोषक तत्व होते हैं, जो गर्भावस्था के दौरान किसी भी गर्भवती स्त्री के लिए फायदेमंद होते हैं. उसके बाद हम बात करेंगे कि किस प्रकार से पहचाने, जो कि सबसे जरूरी है आम कृत्रिम रूप से पका है, या डाल का पका हुआ आम है अर्थात पेड़ पर ही पका हुआ आम है.

आम के पोषक तत्व

आम के अंदर काफी सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कि स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बहुत ज्यादा फायदेमंद होते हैं आम के अंदर आपको मिलेगा पोटेशियम, फॉस्फोरस, कैल्शियम, मैग्नीशियम, थियामिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन फॉलेट, विटामिन के, विटामिन ई, विटामिन ए, विटामिन बी सिक्स, विटामिन सी इत्यादि.

कैसे पहचाने की आम कृत्रिम रूप से पका है

आम कृत्रिम रूप से पका है, इसका सबसे सटीक तरीका जानने का यही होता है कि अगर जब आप आम को चाकू से काटेंगे अगर आम छिलके की तरफ से ज्यादा पका हुआ नजर आता है, तो वह कृत्रिम रूप से पका हुआ आम होता है. अगर आम गुठली की तरफ से ज्यादा पका हुआ नजर आता है तो वह पेड़ पर पका  हुआ आम है.  इसके अलावा भी कुछ और दूसरे तरीके हैं जिससे आप जान सके कि आम कृत्रिम रूप से पकाया गया है.


वैसे तो दुकानदार आम को साफ कर लेते हैं. लेकिन कभी-कभी आप देखेंगे कि आम के ऊपर पतली सी सफेद परत नजर आती है जोकि पकाए गए केमिकल की होती है. तो यह कृत्रिम रूप से पका हुआ आम है.

आम के अंदर से अजीब सी गंध आती है जैसे कि लहसुन से आती है या थोड़ी अलग भी हो सकती है.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में आम खाने के नुकसान और फायदे
इन्हें भी पढ़ें : यह पांच सफेद जहर नहीं खाना है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में चीनी खाएं या नहीं खाएं
इन्हें भी पढ़ें : क्या गर्भवती स्त्री चने खा सकती है

कृत्रिम रूप से पका हुआ आम अधिकतर वे स्वाद और अजीब से स्वाद वाला होता है.

कृत्रिम रूप से पका हुआ आम अपेक्षाकृत नरम नजर आते हैं. उनके ऊपर धब्बे नजर आते हैं. जबकि ओरिजिनल रूप से पके हुए आम काफी ठोस नजर आते हैं और दाग धब्बे ना के बराबर होते हैं.

हमें उम्मीद है कि अब आप किसी भी गर्भवती के खाने के उद्देश्य से आम को अच्छी तरह पहचान पाएंगे कि कौन सा आम गर्भवती महिला के लिए खाने योग्य है.

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने