Header Ads


Pregnancy Care items

Pregnancy mein Breast Pain ke 11 Upay | प्रेगनेंसी में स्तन दर्द के 11 उपाय

आज हम आपसे चर्चा करने वाले हैं कि
प्रेगनेंसी के स्तनों दर्द का उपचार के लिए क्या-क्या किया जाता है
कुछ घरेलू टिप्स और कुछ उपाय बताएंगे जिससे जा सके स्तनों  दर्द से बचा जा सके और
साथ में इस बात पर भी चर्चा करेंगे कि डॉक्टर से कल मिलना चाहिए
 इस बात पर भी चर्चा करेंगे,


अगर किसी गर्भवती स्त्री को प्रेगनेंसी के दौरान स्तनों में दर्द की समस्या नजर आती है तो इससे काफी ज्यादा परेशानी का अनुभव होता है इसके लिए मुख्यतः तीन चीजों से उपचार किया जा सकता है
•    मालिश
•    व्यायाम
•    दवाइयां
 
जहां तक उपचार की बात है तो उस बात को तो आपको नहीं बता सकते हैं कि आपके लिए तो उनका उपचार सबसे अच्छा रहेगा इस बात को तो आप अपने डॉक्टर से पूछे तो ही अच्छा है क्योंकि मैं आकर चेकअप करके आपको सही तरीके से एडवाइज कर सकता है कि आपको कौन सा उपचार आजमाना चाहिए.

breast pain

इन्हें भी पढ़ें : पल्स विधि द्वारा जेंडर प्रिडिक्शन
इन्हें भी पढ़ें : नानी मां के सटीक उपाय से जानिए गर्भ में लड़का है या लड़की
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था के सपने जो ये बताते है गर्भ में बेटा ही है
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में क्या है यह जानना है तो यह 5 लक्षण देखिए

घरेलू उपाय - Home remedies for breast pain in pregnancy

यहां हम आपको कुछ घरेलू उपाय बता सकते हैं जिससे आपको राहत मिल सकती हैं.

अगर स्तनों में दर्द की समस्या नजर आ रही है तो आपको विटामिन ई युक्त खाद्य पदार्थों का प्रयोग अपने भोजन में करना चाहिए. इससे यह दर्द काफी हद तक कम किया जा सकता है. इसके लिए आप विटामिन ई के स्रोत के रूप में बादाम, पालक और मूली का सेवन कर सकते हैं.

दर्द को कम करने के लिए आपको सोयाबीन तथा सोया पदार्थों का प्रयोग अपने भोजन के माध्यम से करना चाहिए क्योंकि सोया के अंदर फाइटोएस्ट्रोजन नामक हार्मोन होता है जो हर बॉलर उतार-चढ़ाव को प्रभावित करता है और आपकी समस्या से आपको राहत दे सकता है.

1 घरेलू उपाय के अनुसार आप अपनी ब्रा में पत्ता गोभी के पत्तों को लगा कर रख सकते हैं इससे दर्द में आराम मिलने की संभावना है. और दौरान प्रेगनेंसी के दौरान भी  इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है .

प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या हो आप को अधिकाधिक पानी पीना चाहिए इस समस्या में भी अधिक पानी पीना आप को राहत प्रदान करेगा.

आप देखे आपको गर्म पानी की सिकाई से राहत मिलती है.  या बर्फ से सिकाई करने पर राहत मिलती है जिस भी प्रकार से राहत मिले आप का प्रयोग करें.

आप अपने भोजन में कैफीन वाले खाद्य पदार्थों को बिल्कुल किनारे इसके अंदर चाय कॉफी चॉकलेट टॉफी इत्यादि आती है और भी दूसरे खाद्य पदार्थ हो सकते हैं इसका पता आप अपने डॉक्टर से कर सकती हैं,

आपको अपने भोजन में इस प्रकार का खाद्य पदार्थ शामिल करना है जिससे आपको कम से कम बसा की प्राप्ति हो साथी साथ आप अलसी के बीजों का प्रयोग भी अपने भोजन में करें तो आपको राहत मिलेगी.

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द से कैसे बचें - How to avoid breast pain in pregnancy


आप अपनी लाइफ स्टाइल में और अपने पहनावे में थोड़ा सा परिवर्तन करके भी अपनी समस्या में थोड़ी सी कमी ला सकती हैं.

आप नहाने के समय सख्त साबुन का प्रयोग ना करें बल्कि साबुन का प्रयोग ही छोड़ दें या आप छोटे बच्चे को नहलाने वाले साबुन से आसपास के क्षेत्र पर सफाई करें.

आप अच्छी क्वालिटी की आपके शरीर को सहारा देने वाली ब्रा का इस्तेमाल कर सकती है. कॉटन ब्रा आपके लिए लाभदायक हो सकती है.

अगर आपको दर्द के साथ-साथ खुजली का भी अनुभव हो रहा है तो आप गर्म पानी से नहाने से बचें.

नहाने के बाद, शरीर के पानी को पोंछकर मॉइस्चराइजर लगाएं. आप अपने मॉइस्चराइजर को थोड़ी देर के लिए रेफ्रिजरेटर में रखकर भी उपयोग कर सकती हैं. इसे लगाने के बाद आपको ठंडक और आराम महसूस होगा.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में खुजली के दौरान सावधानियां
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान स्तन दर्द
इन्हें भी पढ़ें : स्वस्थ गर्भावस्था के 5 उपाय | Part 1
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में कब और कितने अल्ट्रासाउंड किए जाते हैं

डॉक्टर से कब मिले - When did you see the doctor

प्रेगनेंसी के दौरान होने वाला दर्द जरूरी नहीं की है प्रेगनेंसी के कारण ही हो रहा हो. इसके दूसरे कारण भी हो सकते हैं.
अगर आपको यह लक्षण नजर आते हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए

अगर आपको किसी भी प्रकार की गांठ नजर आ रही है तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए
एक ही जगह पर दर्द हो रहा हो और लगातार बढ़ता जा रहा हो तब भी आपको डॉक्टर से मिलने की आवश्यकता होती है.


अगर लालिमा नजर आ रही है तब भी आपको डॉक्टर से मिलना है 


त्वचा में बदलाव जैसे गड्ढे पड़ना या कुछ और प्रॉब्लम तब भी आपको डॉक्टर से मिलना है 


अगर दूध के स्थान पर रंगीन पदार्थ आता है तब भी आपको डॉक्टर से मिलने की आवश्यकता पड़ती है
बगल में गांठ हो जाए तब भी आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए.


No comments

Powered by Blogger.