Header Ads

डिलीवरी के बाद पीठ दर्द हो तो यह भोजन खाना चाहिए | best food in back pain after delivery | 8 food tips

 प्रेगनेंसी के बाद अक्सर महिलाओं को पीठ में दर्द होने की समस्या का सामना करना पड़ता है. ऐसे में महिलाओं को काफी समस्या होती है. परेशानी होती है, क्योंकि उन्हें अपने शिशु को भी संभालना होता है. ऐसे में महिला अपने भोजन में कुछ खाद्य पदार्थों का ध्यान रखें तो उसे पीठ दर्द में काफी राहत महसूस होगी.

 यह चर्चा करते हैं वह कौन-कौन से पदार्थ है, जो डिलीवरी के बाद पेट दर्द की समस्या में लेना चाहिए, और साथ ही साथ बात करते हैं कि किस अवस्था में हमें डॉक्टर से मिलना चाहिए.

 

best food in back pain after delivery

 

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में पेट दर्द के 4 घरेलू उपाय
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान पेट दर्द कब चिंता का विषय है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान पेट में कितने प्रकार के दर्द होते हैं
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था के दौरान उच्च बीपी के लिए 9 घरेलू उपचार - 9 Home remedies
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान उच्च रक्तचाप Part 2

प्रसव के बाद पीठ दर्द की समस्या है तो महिलाओं को दूध का सेवन जरूर करना चाहिए दूध का सेवन करने से कैल्शियम की प्राप्ति होती है और कैल्शियम मिलने से हड्डियां मजबूत होने लगती हैं और दर्द की समस्या धीरे-धीरे दूर होने लगती है.

शरीर में कोई भी कमी पोषक तत्वों की कमी के कारण ही आती है प्रसव के बाद पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए नियमित रूप से हरी सब्जियां फल डाले अपने भोजन में शामिल करें इससे कमर में होने वाला दर्द जल्दी ठीक हो जाता है.

अदरक के अंदर ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो दर्द की तीव्रता को कम करने में मदद करते हैं जल्द राहत दिलाने में मदद करते हैं. इसलिए विंटर सीजन में अगर दर्द की समस्या है तो अदरक का प्रयोग किया जा सकता है.

अजवाइन के अंदर एंटी इन्फ्लेमेटरी कंपाउंड्स पाए जाते हैं, जो दर्द में राहत दिलाने के लिए काफी मददगार होते हैं. इसलिए अजवाइन खाना कमर दर्द को दूर करने में फायदा करता है. आप अजवायन को भूनकर खा सकती हैं. इसका काढ़ा बनाकर भी पिया जा सकता है.

प्रेगनेंसी के दौरान शुद्ध शहद का प्रयोग भी दर्द के लिए किया जाता है असल में शहद के अंदर अमीनो एसिड होते हैं जो कि कमर दर्द को दूर करने में सहायता करते हैं. यह पुराने से पुराने और स्थाई कमर दर्द के इलाज में भी फायदेमंद होता है.

किसी भी प्रकार की चोट लग जाने पर और दर्द होने पर हल्दी भरे दूध का प्रयोग किया जाता है. इस कारण से अब आप समझ सकते हैं कि हल्दी कितनी फायदेमंद चीज है. यह इम्यून सिस्टम को मजबूत करती है और दर्द में लाभ पहुंचाती है इसके अंदर करक्यूमिन  नामक कंपाउंड होता है जो दर्द निवारक का कार्य करता है.

कमर पीठ दर्द को दूर करने के लिए आप सोयाबीन उत्पाद और नट्स का सेवन कर सकती हैं. इसके अलावा, आप सूखी फलियों वाले भोज्य पदार्थ का भी सेवन कर सकती हैं . ये सभी प्रोटीन के अच्छे स्रोत होते हैं. हड्डियों को मजबूत करने के लिए प्रोटीन एक आवश्यक तत्व होता है.

प्रेगनेंसी के बाद कमर दर्द होने पर अंजीर का प्रयोग अपने भोजन में किया जा सकता है इसके अंदर कैल्शियम बड़े अच्छी मात्रा में होता है यह कैल्शियम महिला की हड्डी को मजबूत करेगा और कमर दर्द से छुटकारा दिलाएगा.

इन्हें भी पढ़ें : बेकिंग सोडा और यूरिन से कैसे करते हैं जेंडर प्रेडिक्शन केवल 1 मिनट में - Gender prediction
इन्हें भी पढ़ें : महिला के पेशाब के रंग से कैसे जाने गर्भ में क्या पल रहा है
इन्हें भी पढ़ें : अल्कोहल से जेंडर प्रिडिक्शन 1 मिनट में
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान आयरन के लिए खाद्य पदार्थ
इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के समय बुखार क्यों आता है

कब मिले डॉक्टर से

कमर दर्द में कुछ ऐसी स्थितियां होती हैं जिन स्थितियों में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए जैसे कि

अगर आप का दर्द दिन प्रतिदिन लगातार बढ़ता चला जा रहा है तो यह किसी गंभीर समस्या का संकेत हो सकता है यह सामान्य दर्द नहीं है.

आपको पीठ दर्द भी हो रहा है और साथ ही साथ बुखार भी बना हुआ है तब भी आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए.

कमर दर्द के साथ-साथ अगर आपके पैरों में सूजन की समस्या नजर आ रही है तो आप डॉक्टर से मिले.

अगर प्रसव के बाद किसी चोट की वजह से आपकी कमर में दर्द हो रहा है तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

अगर अचानक से दर्द तेज उठने लगता है फिर शांत हो जाता है फिर तेज उठने लगता है और इसकी वजह से आपकी रोजाना नींद भी सुबह जल्दी खुल जाती है या नींद ही नहीं आती है तब भी डॉक्टर से मिलना चाहिए.

 

No comments

Powered by Blogger.