Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

रविवार, 18 अगस्त 2019

प्रेग्नेंसी में वजन बढ़ने को लेकर हैं परेशान, तो अभी से फॉलो करें ये टिप्स

नमस्कार दोस्तों, प्रेगनेंसी जीवन में खुशियां लेकर आती है वही काफी सारी परेशानियां लेकर भी आती है प्रेगनेंसी में बहुत ज्यादा सावधान रहने की आवश्यकता होती है प्रेग्नेंसी के दौरान कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। सबसे अधिक वजन बढ़ने की समस्या होती है और इसे रोकने के लिए महिलाओं को प्रयास करने की आवश्यकता होती है।

pregnancy weight gain

You May Also Like : गर्भावस्था में मछली के तेल के फायदे
You May Also Like : पुत्री प्राप्ति में स्वर विज्ञान का योगदान

शरीर में हार्मोन अल बदलाव के चलते कई प्रकार की समस्या पर प्रेगनेंसी में नजर आते हैं , जैसे कि मूड स्विंग, मिचली, चक्कर आना और वजन अनियमित रूप से बढ़ने जैसी समस्या होने लगती है। कई महिलाएं इन बातों को हल्के में लेती हैं जिसके कारण उन्हें प्रेग्नेंसी के दौरान कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वजन बढ़ने की समस्या के अलावा जो भी समस्याएं जो हमने बताई है वह आती है तो वह धीरे-धीरे दूर हो जाती है, लेकिन आगे चलकर वजन बढ़ने की समस्या काफी परेशानी पैदा कर सकती है जो डिलीवरी के समय दिक्कत दे सकती है और डिलीवरी के बाद भी यह समस्या परेशानी पैदा करती है । कई महिलाओं को इस बात का अंदाजा भी नहीं होता है कि वो अपने बढ़ते वजन को कैसे कम करेंगी।

आज हम वीडियो के माध्यम से चर्चा करेंगे कि वजन बढ़ने के क्या क्या कारण हो सकते हैं और इन्हें और वजन बढ़ने की समस्या को कंट्रोल कैसे किया जाए साथ ही साथ यह भी बताएंगे किस से किस तरह की परेशानी हो सकती है आइए दोस्तों चर्चा करते हैं।

प्रेगनेंसी के समय वजन का बढ़ना अच्छा माना जाता है अगर वजन कम होता है तो यह परेशानी वाली बात होती है लेकिन अगर वजन जितना बढ़ना चाहिए उससे अधिक बढ़ जाता है तो फिर यह परेशानी का कारण बन जाता है कई प्रकार की समस्याएं पैदा हो जाती है जैसे कि
शरीर का अधिक वजन बढ़ाना गर्भपात का कारण बन सकता है।
You May Also Like : वर्षा ऋतु में गर्भ की देखभाल कैसे करें
You May Also Like : प्रेगनेंसी में नारियल पानी का फायदा

शरीर के अधिक वजन होने की वजह से रक्तचाप भी बढ़ जाता है शरीर के अधिक वजन होने की वजह से रक्तचाप भी बढ़ जाता है जो कि प्रेग्नेंसी के समय ठीक नहीं ।

अगर आप का वजन अधिक हो जाएगा तो शरीर में चर्बी बढ़ेगी जिसकी वजह से बच्चे को विकास के लिए आवश्यक जगह की कमी शरीर के अंदर हो जाएगी।
गर्भधारण के समय में ज्यादा वजन की बात की जाए तो यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन और प्रसव के बाद इंफेक्शन का खतरा भी काफी बढ़ जाता है।
अगर बच्चे का वजन भी बढ़ जाता है तो डिलीवरी नॉरमल नहीं हो पाएगी सिजेरियन बेबी होने के चांसेस अधिक हो जाते हैं।
मोटापा अपने आप में कई बड़े रोगों की जननी माना जाता है तो ऐसे में उन रोगों का भी खतरा बना रहता है
प्रेगनेंसी में वजन बढ़ाने के कुछ मुख्य कारण होते हैं जिन पर चर्चा कर लेते हैं।

weight gain during pregnancy

You May Also Like : घर पर चीनी से प्रेगनेंसी कैसे चेक करें
You May Also Like : प्रेगनेंसी के दौरान इन 16 बातों का ध्यान रखें - Part #2

1 तनाव 
अगर प्रेग्नेंसी के समय महिलाएं तनाव से ग्रस्त रहते हैं तनाव किसी भी वजह से हो सकता है बच्चे को लेकर, घर में किसी बात को लेकर, बच्चे के भविष्य को लेकर कैसा भी तनाव, यह तनाव प्रेगनेंसी में मोटापे का कारण बन जाता है। ऐसी स्थिति में महिलाओं को ज्यादा से ज्यादा खुश रहना चाहिए।

2. डायबिटीज और हाइपरटेंशन
आजकल खानपान बहुत ज्यादा खराब हो गया है जिसकी वजह से हाइपरटेंशन और डायबिटीज की समस्या बहुत ही कम उम्र में देखने में नजर आने लगी है । जो मां और बच्चे दोनों पर प्रभाव डालती है और साथ ही मोटापा बढ़ाने का भी एक कारण है।

3. नींद की कमी
प्रैग्नेंसी में रात को पूरी नींद न लेने से भी वजन बढ़ने की समस्या हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान होने वाले शारीरिक बदलाव की वजह से शरीर को आराम की जरूरत होती है। इसलिए एेसे समय में प्रोपर नींद लें।

4. अधिक कैलोरी लेना
प्रेग्नेंसी के समय महिलाओं को अत्यधिक भूख लगती है तो ऐसे में खाना खाने की इच्छा होती भी है और खाना खाना बोला भी जाता है लेकिन कभी-कभी महिलाएं इस बात का ध्यान नहीं रख पाती है कि जो वह खा रही है वह पौष्टिक है या नहीं कभी-कभी महिलाएं भूख लगने पर ऐसी वस्तुएं खाने लगती है जिसमें मात्र कैलोरी होती है जो आगे चलकर मोटापे का कारण बन जाती है।
प्रेग्नेंसी से पहले वजन कम करने के लिए करें ये काम
You May Also Like : Y शुक्राणुओं को कैसे ताकतवर बनाए - लड़का पैदा हो
You May Also Like : कब और कैसे करें प्रेगनेंसी चेक

डाइट प्लान का पालन करें
अगर आप प्रेगनेंसी में ओवरवेट हो गए हैं और आप अपना वेट कम करना चाह रहे हैं तो एकदम से खाना भी नहीं छोड़ा जाता है क्योंकि बच्चे के लिए जो आवश्यक पोषक तत्व है वह तो आपको लेने ही होंगे तो ऐसे में आप अपनी डाइट का प्लान बनाएं।

इसके लिए आप अपने डॉक्टर से या किसी डाइट एक्सपर्ट से सलाह ले सकते हैं, क्योंकि आपको कैलरीज इंटेक कम करना है और पोषक तत्व भरपूर मात्रा में लेने हैं तो आपको अपने खाने की न्यूट्रिशन वैल्यू भी पता होनी चाहिए तो इसके लिए डाइट एक्सपर्ट की सलाह आवश्यक होगी । डाइटिंग की बजाय आप डाइट प्लान का पालन करना एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। ये आपको पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व प्रदान करते हैं और आपके फर्टिलिटी के स्तर को बनाएं रखते हैं।

कैलोरी का सेवन करें कम
यदि आप वजन कम करने के बारे में सोच रही हैं तो कैलोरी के सेवन को कम करें। रोजाना 1500 कैलोरी से कम के सेवन की कोशिश करें। पूरी तरह से कार्बोहाइड्रेटेड और फैट के सेवन को करने की बजाय बराबर मात्रा में सेवन करें।

एक्सरसाइज करें
आप अगर प्रेगनेंट हैं और आपका वजन अधिक है तो आपको अपने वजन को कम करने के लिए एक्सरसाइज का सहारा लेना पड़ सकता है लेकिन प्रेगनेंसी में हर प्रकार के तो नहीं की जा सकती है
एक्सरसाइज जरूरी है। बिना एक्सरसाइज के वजन कम नहीं किया जा सकता है। तो आप अपने डॉक्टर से पूछे कि आपको किस तरह के एक्सरसाइज करनी चाहिए अगर आप एक्सरसाइज नहीं करना चाहती हैं तो रोजाना टहलना भी आपके लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है, ताकि आप के कम से कम रोजाना 500 कैलोरी बर्न हो ।
You May Also Like : गर्भ अवस्था में इन बातों का ध्यान रखें बच्चा तेज दिमाग वाला होगा
You May Also Like : गर्भावस्था में अमरूद खाने के जबरदस्त फायदे


weight loose during pregnancy


सप्लीमेंट्स का सेवन करें
वजन को कंट्रोल करने के लिए फूड सप्लीमेंट भी एक बेहतर उपाय आजकल ट्रेंड में है इसमें क्या होता है कि आपको फूड सप्लीमेंट के अंदर हर तरह का पोषक तत्व निश्चित मात्रा में आपको मिलेगा जो की बहुत अच्छी बात है और साथ ही साथ आपको कैलरीज का सेवन भी नहीं करना पड़ेगा इससे आपके और आपकी गर्भस्थ बच्चे के लिए आवश्यक पोषक तत्व भी मिलते रहेंगे और आपका वजन भी कम हो जाएगा लेकिन प्रेगनेंसी में फूड सप्लीमेंट लेने से पहले आपको अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।
You May Also Like : गर्भावस्था में लीची का सेवन सुरक्षित है या नहीं
You May Also Like : गर्भावस्था में पपीता खाए कि नहीं


एल्कोहल को कहें ना
एल्कोहल ना सिर्फ शरीर में फैट की मात्रा बढ़ाता है बल्कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। इससे गर्भ में पल रहे बच्चे का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य भी प्रभावित होता है। इसके अलावा अनियमित रूप से वजन भी बढ़ाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें