स्तनपान कराने से माँ को होने वाले 10 लाभ

0
112
अगर बच्चा नवजात बच्चा माता का दूध पीता है, तो यह उसके लिए अमृत के समान होता है. उसे कितना फायदा किसी और प्रकार के भोजन पदार्थ से नहीं होता जितना फायदा माता के दूर से होता है.लेकिन दोस्तों क्या आप यह भी जानते हैं कि अगर माता स्तनपान कराती है, तो उसे भी बहुत ज्यादा फायदा होता है. आज हम आपको इसी टॉपिक पर बात करने जा रहे हैं.

Breast Feeding Benefits

दोस्तों आजकल माताएं बच्चों को दूध पिलाना पसंद नहीं कर रही हैं. इसके पीछे बहुत सारे तर्क दिए जाते हैं. उन पर तो हम चर्चा नहीं करते हैं. लेकिन दोस्तों आपको क्या लगता है. क्या वास्तव में स्तनपान ना कराना महिलाओं के लिए फायदेमंद है.


हमें लगता है कि महिलाएं स्तनपान ना करा कर एक तरह से एक नेचुरल प्रोसेस को ब्लॉक कर देती है. जो ब्लॉक नहीं होनी चाहिए, और उसके दुनिया भर के नुकसान होते हैं.



इन्हें भी पढ़ें : कोरोना वायरस की होम्योपैथी मेडिसन – Homeopathy medicine of corona virus
इन्हें भी पढ़ें : बच्चे का टीथर सेलेक्ट करते समय क्या सावधानी रखें 
इन्हें भी पढ़ें : ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली माताओं के लिए सुपर फूड – Food for increase Milk – Part2
इन्हें भी पढ़ें : ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली माताओं के लिए सुपर फूड – Food for increase Milk – Part1

भारत देश में बहुत सारे लोग जो गलत अफवाह और भ्रामक जानकारी समाज में फैला रहे हैं वह सब के सब बेबी फूड प्रोडक्ट की कंपनियों से जुड़े हुए हैं, और रिसर्च के नाम पर गलत जानकारियां दे रहे हैं ताकि उनका बिज़नेस अच्छे से फैले..

महिला को स्तनपान के फायदे


इन्हें भी पढ़ें : स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करने के लिए ट्राई करें ये 3 घरेलू नुस्खे
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में अंगूर फायदेमंद या खतरा



स्तनपान  कराने के महिलाओं  फायदे – Sthanpaan Kerane se Mata ko Fayade

  • स्तनपान कराने से महिलाओं का डिंब उत्सर्जन रुक जाता है अर्थात उनके शरीर में अंडे बनने कुछ समय के लिए रुक जाते हैं जब तक है स्तनपान कराती है इससे उन्हें कुछ समय के लिए माहवारी से छुटकारा भी मिल जाता है, और समय से पहले दूसरा बच्चा होने का डर भी समाप्त हो जाता है. 
  • स्तनपान कराते समय माँ के शरीर में ऑक्सीटोसिन हार्मोन स्रावित होता है, जो गर्भाशय को पुनः अपने प्रेगनेंसी से पहले वाली आकार में लाने का कार्य करता है.
  • महिला अपने बच्चे को जितना अधिक दूध पिलाती है उतना ही स्तन कैंसर की संभावना कम हो जाती है.
  • जो महिलाएं बच्चे के जन्म के तुरंत बाद ब्रेस्टफीडिंग शुरू करती हैं। उन्हें प्रसव के बाद होने वाले दर्द व रक्तस्त्राव में भी काफी आराम मिलता है.
  • स्तनपान से महिला के शरीर पर जमी एक्स्ट्रा कैलोरी धीरे धीरे समाप्त हो जाती है. मोटापा कम हो जाता है.
  • प्रसव के बाद महिला के पेट लटक जाता है. अगर महिला स्तनपान कराती है, तो महिला का पेट धीरे धीरे अपनी पुरानी ओरिजिनल पोजीशन में आ जाता है. 

इन्हें भी पढ़ें : उत्तम बुद्धि और सुंदर सी संतान की प्राप्ति के लिए
इन्हें भी पढ़ें
: स्तनपान से शिशु को होने वाले लाभ – Breast Feeding BenefitsBaby Care 


  • स्तनपान कराने से बच्चो को ही नहीं बल्कि माताओं को भी बहुत सारी बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है। स्तनपान बच्चों में कैंसर के खतरे के साथ साथ माताओं में भी इसके खतरे को कम करता है.
  • स्तनपान ना कराने वाली माताएं बहुत जल्दी तनाव (tension)का शिकार होती हैं और उन्हें डिप्रेशन (depression) भी बहुत जल्दी पकड़ लेता है.


इन्हें भी पढ़ें : मनचाही संतान प्राप्ति का सही टाइम ये है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में सांस फूलने की समस्या – Breathlessness in pregnancy
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए – Part #10
इन्हें भी पढ़ें : महिला की प्रेगनेंसी और थायराइड पार्ट #4

  • स्तनपान कराने वाली महिलाएं अपेक्षाकृत अधिक स्वस्थ होती हैं। ऐसी महिलाओं को टाइप−2 डायबिटीज, रूमेटाइट आर्थराइटिस, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर व हाई कोलेस्ट्रॉल जैसी समस्याएं होने की संभावना न के बराबर होती है.
  • स्तनपान कराने वाली माताओं की हड्डियां बहुत मजबूत रहती हैं.

अब इसमें कोई भी शक की बात नहीं होनी चाहिए कि नई नई मां बनी महिलाओं को स्तनपान कराना उनके लिए भी कितना जरूरी होता है.

ब्रेस्टफीडिंग ड्रेस की आवश्यकता

एक नवजात बच्चे की माता को अपने शिशु को ब्रेस्ट फीडिंग कराने की आवश्यकता होती है. एक नवजात बच्चा लगभग 6 महीने तक अपनी माता का दूध दिन में कई बार पीता है. ऐसी परिस्थिति में माता को ट्रेडिशनल ड्रेस के अंदर ब्रेस्ट फीडिंग कराने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है.

अब इस परेशानी को दूर कर दिया गया है. नवजात बच्चे की माताओं के लिए ब्रेस्टफीडिंग ड्रेसेस अब मार्केट में उपलब्ध हो गई है. यह ड्रेस काफी स्टाइलिश भी होती हैं, और इनमें बच्चे को स्तनपान कराने की सुविधा भी होती
है. नवजात बच्चे की माताओं के पास ब्रेस्टफीडिंग ड्रेस अवश्य होनी चाहिए. क्योंकि अगले कम से कम 1 साल तक महिलाएं अपने बच्चे को स्तनपान कराएंगे.

ब्रेस्टफीडिंग ड्रेस के अंदर महिलाओं को स्तनपान कराने में काफी सुविधा रहती है. कई बार महिलाओं को घर और घर के बाहर भी बच्चों के साथ निकलना पड़ता है. पब्लिक प्लेस में भी कभी-कभी ब्रेस्टफीडिंग करानी पड़ती है. इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखकर ब्रेस्टफीडिंग ड्रेस डिजाइन की जाती है.

महिलाएं अपने लोकल मार्केट से ब्रेस्ट फीडिंग ड्रेस खरीद सकती हैं. लोकल मार्केट में आपको बहुत अधिक चॉइस नहीं मिलती है, लेकिन अगर आप Online nursing Dress खरीदने जाएंगे तो आपको एक बहुत लंबी रेंज प्राप्त होगी, जहां आप अपनी पसंद की स्टाइलिश ब्रेस्टफीडिंग ड्रेस खरीद सकती है.

अगर आप ऑनलाइन परचेसिंग कर रहे हैं तो आपको किसी प्रतिष्ठित वेबसाइट से ही शॉपिंग करें. क्योंकि यहां आपको प्रोडक्ट पसंद नहीं आने पर रिटर्न करने की सुविधा भी प्राप्त होती है.

ऐसे ही हम आपको ब्रेस्टफीडिंग ड्रेस से संबंधित एक प्रतिष्ठित वेबसाइट वेबसाइट का लिंक प्रोवाइड करा रहे हैं. जहां जाकर आप ब्रेस्टफीडिंग ड्रेस के संबंध में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकती हैं.

 

 
TAG : 
स्तनपान, स्तनपान के लाभ, स्तनपान से लाभ, ब्रेस्टफीडिंग के फायदे,ब्रेस्टफीडिंग,ब्रेस्टफीडिंग के लाभ, ब्रेस्टफीडिंग के बारे में

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें