Header Ads


Pregnancy Care items

प्रेगनेंसी में मशरूम खाने के 7 फायदे | मशरूम की सब्जी हिंदी

प्रेगनेंसी में मशरूम खाने के क्या-क्या फायदे आपको नजर आ सकते हैं. मशरूम की सब्जी का प्रयोग भारत में मुख्य रूप से किया जाता है.  साथ ही इसे कई प्रकार के व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है.


प्रेगनेंसी में मशरूम खाने को खाने के क्या-क्या फायदे होते हैं
अगर आप यह जान जाए तो हो सकता है कि आप मशरूम प्रेगनेंसी के दौरान खाना पसंद करें.

मशरूम के अंदर पोषक तत्वों की एक लंबी लिस्ट होती है जो कि प्रेगनेंसी के दौरान काफी फायदेमंद हो सकते हैं. 

प्रेगनेंसी में मशरूम खाने के 7 फायदे

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में मशरूम कब और कैसे खाएं
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में मेथी दाना खाने के 4 फायदे और 4 नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में झुकना | कंप्लीट जानकारी
इन्हें भी पढ़ें : क्या प्रेगनेंसी में पालक खाना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : क्या मखाने खाना प्रेगनेंसी में सुरक्षित है

स्ट्रांग इम्यून सिस्टम - Majbut Pratirodhak Kshamta

मशरूम के अंदर ऐसे बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो कि महिला के लिए उसके इम्यून सिस्टम को स्ट्रांग बनाने में काफी मदद करते हैं. अगर महिला की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत रहेगी तो वह जल्दी से किसी भी प्रकार के संक्रमण का शिकार नहीं बनेगी और स्वस्थ रहेगी. छोटे-मोटे रोग जैसे कि खांसी जुखाम बुखार सर्दी पेट दर्द दस्त उल्टी और दूसरे प्रकार के संक्रमण जल्दी से अटैक नहीं कर पाते हैं.

भ्रूण की लंबाई और वजन - Garbhasth Shishu ka Vikas

गर्भावस्था में मशरूम का सेवन केवल महिलाओं को ही फायदा नहीं देता है, बल्कि उसके शिशु के स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव डालता है. मशरूम के अंदर पाया जाने वाला राइबोफ्लेविन शिशु के जन्म के समय उसके वजन और उसके लंबाई दोनों पर सकारात्मक प्रभाव डालता है. मशरूम के सेवन से लंबाई और वजन उचित होते हैं.

कब्ज की समस्या का समाधान - Kabj se Aaram

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को कब्ज की शिकायत अक्सर देखने में आती है. क्योंकि प्रेगनेंसी हारमोंस मांसपेशियों को मुलायम कर देते हैं. जिसकी वजह से खाना आसानी से नहीं पच पाता है. मशरूम के अंदर अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है. जो कि कब्ज को दूर करने में काफी सहायक होता है.

शिशु के मस्तिष्क का विकास- Baby ka Brain Development

शिशु के मस्तिष्क के विकास में कॉलिन नाम का पोषक तत्व काफी अहम भूमिका निभाता है. और यह पोषक तत्व मशरूम के अंदर उचित मात्रा में होता है.

शिशु की हड्डियों का विकास - Baby ki Bones ka Development

मशरूम के अंदर कैल्शियम भी पाया जाता है, और विटामिन डी भी अच्छी मात्रा में होता है. विटामिन डी की उचित मात्रा अगर शरीर में होती है. तो उसकी कमी से होने वाले रोग शिशु और महिला को नहीं हो पाते हैं. साथ ही साथ विटामिन डी शरीर के अंदर कैल्शियम को अवशोषित करने के लिए कार्य करता है. इस प्रकार से हम कह सकते हैं मशरूम शिशु की हड्डियों के विकास और उसकी मजबूती में सहायता करता है.


इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान पेट में कितने प्रकार के दर्द होते हैं
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी नहीं होने के 11 बड़े कारण
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में खुजली के प्रकार
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में खुजली के घरेलू उपाय
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान पत्ता गोभी खाएं या नहीं खाएं

भ्रूण का समुचित विकास - Overall Fetus Development

दोस्तों हमने अपने पहले वीडियो में अर्थात इस वीडियो के पहले Part में बताया है, कि मशरूम के अंदर कितने प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं. दोस्तों मशरूम के अंदर पाए जाने वाले पोषक तत्व की एक लंबी लिस्ट है. अगर महिला गर्भावस्था के दौरान मशरूम का सेवन करती है तो उसके गुण का समुचित विकास अच्छी तरह से होता है.

खून की कमी दूर- Khoon ke Kami nahi Hogi

मशरूम के अंदर आयरन उचित मात्रा में पाया जाता है. साथ ही साथ ऐसे तत्व भी पाए जाते हैं, जो आयरन को सोखने में मदद करते हैं. जिसके कारण शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर उचित बना रहता है. शरीर के अंदर खून की कमी नहीं होती है. महिला एनीमिया का शिकार होने से बच जाती है.


No comments

Powered by Blogger.