Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

गुरुवार, 1 अगस्त 2019

प्रेगनेंसी के समय अक्सर होने वाले कमर दर्द से ऐसे पाएं छुटकारा

नमस्कार दोस्तों आज के वीडियो में हम चर्चा करने जा रहे हैं प्रेगनेंसी के समय पेट में होने वाले दर्द को लेकर तू तो प्रेगनेंसी अपने आप में एक बड़ा ही क्रिटिकल समय होता है इसमें बड़ा ही ध्यान रखना होता महिला को अपने स्वास्थ्य का
कभी-कभी महिला की पीठ में प्रेगनेंसी के समय दर्द होने लगता है अधिकतर तो यह दर्द कोई नुकसान नहीं देता है लेकिन कभी-कभी यह दर्द काफी नुकसानदायक होता है और कुछ मेजर प्रॉब्लम्स में भी पीठ में दर्द होता है जो बच्चे को लेकर दिक्कत पैदा कर सकती हैं आज हम गर्भवती महिला के पीठ दर्द को लेकर कुछ सावधानियां रखने से संबंधित articleलेकर आए हैं, ताकि बच्चा और बच्चे की मां दोनों स्वस्थ रह सकें यह पीठ दर्द किन किन अवस्थाओं में होता है इससे बचने के क्या क्या उपाय हो सकते हैं आदि विषय पर चर्चा करेंगे दोस्तों अंत तक हमारे साथ बने रहिए
You May Also Like : प्रेगनेंसी में शहद का सेवन कितना फायदेमंद
You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में घी खाना फायदेमंद होता है


lower back pain during pregnancy


प्रेगनेसी के दौरान कमर दर्द से बचने के लिए खास ध्यान की जरूरत होती है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो प्रेगनेंसी के बाद भी कमर दर्द की समस्या बनी रह सकती है।

प्रेगनेंसी के समय कमर दर्द की समस्या से महिलाओं को दो-चार होना ही पड़ता है। कभी-कभी यह बच्चे के विकास की वजह से होता है। प्रेगनेंसी में कई हार्मोंस भी निकलते हैं जिसकी वजह से महिलाओं के कमर के आस-पास का एरिया मुलायम हो जाता है। इसकी वजह से हड्डियों के जोड़ भी मुलायम होते हैं और कमर में अक्सर दर्द होने लगता है। बच्चे के विकास से कमर पर जोर पड़ने की वजह से भी कमरदर्द होने लगता है। प्रेगनेंसी के दौरान कमर दर्द से बचने के लिए खास ध्यान की जरूरत होती है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो प्रेगनेंसी के बाद भी कमर दर्द की समस्या बनी रह सकती है। आइए जानते हैं प्रेगनेंसी के समय कमर दर्द से राहत के लिए 5 बेहतरीन उपाय।
You May Also Like : जानें क्यों प्रेगनेंसी में सौंफ खाने से किया जाता है मना
You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में गर्म पानी से नहाना सुरक्षित है


एक्यूपंचर
दोस्तों एक्यूपंचर चाइना की एक मेडिकल पद्धति है जिसमें सुईया चुभा कर शरीर के दर्द का या किसी अन्य बीमारी का इलाज किया जाता है लेकिन दोस्तों भारत जैसे देश में इसके एक्सपर्ट कम ही देखने को मिलते हैं अगर आप किसी एक्यूपंचर स्पेशलिस्ट के संपर्क में है तो आप उससे इसके इलाज के लिए मिल सकती है क्योंकि इसके अंदर कोई भी मेडिसन नहीं दी जाती है जिससे कि बच्चे को नुकसान हो सके तो यह एक अच्छा तरीका हो सकता है
एक्यूपंचर में त्वचा पर सुईयां लगाकर इलाज किया जाता है। एक स्टडी के मुताबिक एक्यूपंचर बैक और पेल्विक पेन को कम करने में मदद करता है। जब भी एक्यूपंचर कराएं किसी एक्पर्ट की सलाह जरुर ले लें।

हीट पैक 
प्रेगनेंसी में कमर दर्द से राहत पाने का यह तरीका सबसे बेहतर माना जाता है। इसके लिए मार्केट में रबड़ की बोतल से मिल जाती है जिस में पानी भरकर हम सिकाई कर सकते हैं,क्योंकि गर्माहट की वजह से मांसपेशियों में ब्लड सर्कुलेशनल बढ़ता है और दर्द और सूजन से राहत मलती है। अगर आपको मार्केट से बोतल नहीं मिल पाती है तो तौलिया का प्रयोग भी इसके लिए किया जा सकता है, तौलिया को गर्म पानी में गरम करके रख सकते हैं ध्यान रहे जरूरत से ज्यादा गर्म ना करें । और दिन में 2 बार से ज्यादा सिकाई ना करें अगर ज्यादा ही आवश्यकता हो तो अधिकतम 3 बार भी कर सकते हैं ।

back pain during pregnancy, pregnancy back pain relief

You May Also Like : गर्भावस्था में पत्तागोभी खाना कितना सुरक्षित
You May Also Like : प्रेगनेंसी होने के शुरुआती लक्षण 10 लक्षण - Part #1

पॉस्चर
कमर दर्द को दूर करने के लिए सही पॉस्चर में बैठना बेहद जरुरी होता है। आपके बैठने का तरीका भी आपकी कमर दर्द का कारण हो सकता है शायद आप इस तरह से बैठते हो कि इससे आपकी कमर पर अतिरिक्त दबाव पड़ता हो , इस दौरान बैठते समय अच्छी कुर्सी का इस्तेमाल करना चाहिए साथ ही कमर के सपोर्ट के लिए तकिये का इस्तेमाल करें। पैरों को क्रॉस करके बैठने की बजाय पैरों को किसी चीज पर रख आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपके पैर ना लटके । कमर दर्द को दूर करने के लिए हमेशा सीधे खड़े होकर चलें और कंधों को झुकाए नहीं।

आइस पैक
जिस तरह गर्म पानी से सिकाई की जाती है उसी तरह से आइस पैक से भी शिकायत की जाती है , आइस पैक बर्फ से बनाया जाता है, जिससे प्रेगनेंसी के दौरान कमर दर्द कम करने में मदद मिलती है। बर्फ की सिकाई से सूजन कम हो जाती है जिससे दर्द में आराम मिलता है । इसके लिए एक प्लास्टिक के बैग में बर्फ को क्रश करके डालें और इसे तौलिये में लपेट लें। इस कंप्रेसर को 5-10 मिनट तक कमर पर रखें। इस प्रकार से आप दिन में दो से तीन बार सिकाई कर सकते हैं।
You May Also Like : प्रेगनेंसी में क्यूं खाना चाहिये फूलगोभी
You May Also Like : प्रेगनेंसी के शुरुआती 11 लक्षण - Part #2

एक्सरसाइज
वैसे तो प्रेगनेंसी की अवस्था में हर तरह की एक्सरसाइज नहीं कर सकते हैं लेकिन कुछ आसान सी एक्सरसाइज करना डॉक्टर सजेस्ट करते हैं, प्रेगनेंसी के दौरान कमर दर्द दूर करने का आसान तरीका एक्सरसाइज करना है। रोजाना एक्सरसाइज करने से मांसपेशियों को मजबूती मिलती है जो कमर दर्द को दूर करने में मदद करती है। गर्भावस्था के दौरान टहलना एक अच्छी एक्सरसाइज मानी जाती है अगर इसके अलावा भी आपको कुछ एक्सरसाइज करनी हो तो इसकी सलाह आप अपने डॉक्टर से ले सकती हैं ।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें